Monday, June 26, 2017

अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस प्रतिवेदन

योगमय जीवन शैली से होता है सर्वांगीण विकास
विवेकानन्द केन्द्र द्वारा पांच स्थानों पर योग दिवस के कार्यक्रम       
    बीना। विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी की बीना शाखा व विवेकानन्द केन्द्र बीओआरएल चिकित्सालय द्वारा ‘अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस‘ के अवसर पर पांच स्थानों पर योग दिवस के कार्यक्रम आयोजित किए गए। केन्द्रीय विद्यालय,बीना, रेलवे स्पोर्ट्स काॅम्प्लेक्स, गुरूदेव पब्लिक स्कूल, बीओआरएल सयंत्र स्थित सीआरटी विवेकानन्द केन्द्र बीओआरएल चिकित्सालय सहित कुल पांच स्थानों पर योग के आयोजन किए गए। 
    विवेकानन्द केन्द्र बीओआरएल चिकित्सालय परिसर में अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर योगाभ्यास कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में योग का महत्व संस्थान के चिकित्सा अधीक्षक डाॅ. राजकुमार कयाल ने रखा। उन्होने इस अवसर पर कहा कि योग हमें एक आदर्श जीवन जीने के लिए प्रेरित करता है। योग आज पूरा विश्व अपना रहा है, ऐसे में हमें भी नियमित रूप से योग का अभ्यास करना चाहिए। योग से शरीर व मन और आत्मा तीनों एकरूप हो जाते हैं। महर्षि पतंजलि ने करीब दो हजार साल पहले योग विषयक जानकारियों को एकत्र कर पतंजलि योग प्रदीपिका नामक ग्रंथ लिखा जो आज भी प्रासंगिक है। डाॅ. कयाल ने सभी योगाभ्यासियों से नियमित योग करने का आव्हान किया। वहीं योगाभ्यास कार्यालय अधीक्षक श्री राहुल उदैनिया व श्री सीनियर नर्सिंग स्टाफ श्री नीरज जैन ने कराया। 
     इस मौके पर श्री राहुल उदैनिया ने विवेकानन्द केन्द्र बीओआरएल चिकित्सालय के सातवें स्थापना दिवस के कार्यक्रमों की जानकारी भी रखी। योग दिवस के इस योगाभ्यास कार्यक्रम में करीब 30 लोगों ने योगाभ्यास किया।  



       वहीं चिकित्सालय व विवेकानन्द केन्द्र बीना के कार्यकर्ताओं की टीम ने बीना नगर में विभिन्न तीन स्थानों पर एवं बीओआरएल संयत्र में एक आयोजन किया गया। अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर प्रथम कार्यक्रम केन्द्रीय विद्यालय में आयोजित किया गया।  उक्त कार्यक्रम में सर्वप्रथम योग के महत्व पर विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी के भोपाल विभाग के विभाग प्रशिक्षण प्रमुख व चिकित्सालय के प्रशासनिक अधिकारी गिरीश कुमार पाल ने योग की परिभाषा ’अथ योगानुशासनम्’’ विषय पर बोलते हुए कहा कि योग एक जीवन पद्धति है, इसे अपनाने से हम हर व्याधि से मुक्त हो सकते हैं। वहीं योगमय जीवन शैली हमें सार्वागीण विकास की अवधारणा से पिरचित कराती है। वर्तमान में योग के नियमित अभ्यास से हम अनुशासन का पालन कर अपने जीवन को सार्थक बना सकते है। 




     योगाभ्यास के क्रम में विद्यालय के योग शिक्षक विक्रम सिंह लोधी ने करीब 500 विद्यार्थी व 30 शिक्षकों को काॅमन प्रोटोकाॅल का अभ्यास कराया। इस अवसर पर विद्यालय की प्राचार्या श्रीमती सुनीता गुप्ता व अन्य शिक्षक विशेष रूप से उपस्थित रहे। 

     दूसरा कार्यक्रम रेलवे स्पोर्टस काॅम्प्लेक्स में आयोजित किया गया जहां रेलवे के करीब 60 अधिकारी व कर्मचारियों व रेलचालकों ने योग का अभ्यास किया। योग के महत्व पर विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी के भोपाल विभाग के विभाग प्रशिक्षण प्रमुख गिरीश कुमार पाल ने जानकारी रखी। इस अवसर पर रेलवे यूनियन के अध्यक्ष व स्टेशन मास्टर श्री  महेन्द्र सिंह पिंका व रेलवे यूनियन के सचिव श्री रवि राय सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे। यहां योग का प्रशिक्षण विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी की बीना शाखा की योग प्रमुख श्रीमती राखी गरेवाल ने योग का अभ्यास कराया। 


     तृतीय कार्यक्रम भारत ओमान रिफायनरीज लिमिटेड के सयंत्र स्थित सीआरटी परिसर में सम्पन्न हुआ जहां बीपीसीएल के 20 युवा इंजीनियर्स ने योग का अभ्यास किया। यह अभ्यास विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी की बीना शाखा के नगर व्यवस्था प्रमुख श्री राहुल उदैनिया ने कराया। उन्होने गीत व एकाग्रतावर्धक खेल भी खिलाए गए। 
      चतुर्थ कार्यक्रम खिमलासा रोड स्थित गुरूदेव पब्लिक स्कूल में आयोजित किया गया। यहां के सैद्धांतिक पक्ष पर बोलते हुए योग प्रशिक्षक गिरीश कुमार पाल ने कहा कि जीवन में हम हर क्षेत्र में अनुशासन का पालन करें। समय, व्यवहार, शारीरिक व वस्तुओं के अनुशासन के पालन से हमें एक सच्चे योगी बन सकते है। आज हम संकल्प लें की हम नियमित योग करेंगे और अपने जीवन का कुछ न कुछ समय हम राष्ट्र निर्माण की गतिविधियों में लगाएंगे। उक्त कार्यक्रम में विद्यालय के करीब 200 विद्यार्थी व 20 शिक्षकों ने योगाभ्यास किया। इस अवसर पर विद्यालय के चैयरमेन श्री सौरभ सिरोठिया ने प्रशिक्षकों को स्मृति चिन्ह प्रदान कर स्वागत किया  गुरूदेव काॅलेज के प्राचार्य श्री उदयभान पटेल, गुरूदेव पब्लिक स्कूल की प्राचार्या श्रीमती रजनी सिंह, विवेकानन्द केन्द्र केन्द्र कन्याकुमारी की बीना शाखा के विस्तार प्रमुख श्री धन्नालाल प्रजापति, सह- योग प्रमुख डाॅ. श्रीमती मनीषा सिंह राजपूत, प्रमोद साहू, रामअवतार यादव आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन विद्यालय के शिक्षक श्री मनीष उपाध्याय व आभार विद्यालय की शिक्षिका कुमारी निवेदिता शुक्ला ने व्यक्त किया ।



No comments:

Post a Comment