VK IMAGE

VK IMAGE
.

Vivekanada Vani

That love which is perfectly unselfish, is the only love, and that is of God.  -Swami Vivekananda                                                                                                                                                            Slave wants power to make slaves.  -Swami Vivekananda                                                                                                                                                            The goal of mankind is knowledge.  -Swami Vivekananda                                                                                                                                                            In the well-being of one's own nation is one 's own well-being.  -Swami Vivekananda                                                                                                                                                            If a Hindu is not spiritual, I do not call him a Hindu.  -Swami Vivekananda                                                                                                                                                            Truth alone gives strength........ Strength is the medicine for the world's disease.  -Swami Vivekananda                                                                                                                                                           

Friday, September 13, 2019

Date 7-09-2019 विमर्श


🚩 विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी शाखा बीना🚩
विमर्श


👉 जहां से स्वामी विवेकानंद ने भारत के लिए अपने कार्य की शुरुआत की । उसी शिला पर अब आप सभी के अमूल्य योगदान से एक सुंदर स्मारक खड़ा है। इस स्मारक निर्माण ने वस्तुतः पूरे देश को एक साथ लाकर इसे एक राष्ट्रीय कार्य बना दिया और यह महान कार्य श्री एकनाथ रानाडे जी के चिर स्मरणीय प्रयत्नों के परिणाम स्वरूप सितंबर 1970 में राष्ट्र को समर्पित हुआ। यह बात विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी के महासचिव माननीय डी भानुदास ने विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी शाखा बीना द्वारा आयोजित "एक भारत विजयी भारत" विमर्श कार्यक्रम के दौरान, दीनानाथ हेरिटेज बीना के सभागार में उपस्थित गड़मान्या जनमानस से कहीं।
🌸उन्होंने अपने उद्बोधन में आगे कहा कि कन्याकुमारी की इसी शिला पर स्वामी विवेकानंद को अपने जीवन लक्ष्य का अन्वेषण हुआ था और यहां से जाने के बाद शिकागो की धर्म संसद से स्वामी जी का संपूर्ण राष्ट्र को जागरण का आह्वान हुआ था। तत्पश्चात पूरे संसार ने स्वामी जी को नमन किया और विजई होकर लौटे। उन्होंने अपने उद्बोधन में बताया कि शिला स्मारक के निर्माण में तीन स्तरों पर बाधाओं का सामना करना पड़ा, जिनपर माननीय एकनाथजी रानाडे ने अपनी कुशल नेतृत्व एवं संघटनात्मक क्षमता से विजय प्राप्त की। देखने में दुर्गम से दिखने वाले इस कार्य को उन्होंने 323 सांसदों से शिला स्मारक निर्माण के समर्थन पत्र पर मात्र तीन दिन में हस्ताक्षर प्राप्त किए । उन्होंने अपने सभी विरोधियों को अपने पक्ष में कर इस राष्ट्रीय स्मारक के निर्माण कार्य को प्रशस्त किया। इसका औपचारिक उद्घाटन 2 सितंबर 1970 को भारत के उपराष्ट्रपति श्री वी वी गिरि ने किया । उद्घाटन समारोह में प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी, स्वामी रंगनाथन भारत के उपराष्ट्रपति सीजीएस पाठक जैसे कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।
कार्यक्रम का संचालन आचार्य श्री राम शर्मा जी ने किया। आदरणीय श्री सत्यजीत जी ठाकुर ने स्वागत अभिभाषण तथा अतिथियों का सत्कार किया । आदरणीय जगन्नाथ जी वाधवानी ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया। योग शिक्षक डेलन सिंह एवं केंद्र विद्यालय के छात्रों ने एडवांस योग का डेमो दिया ।बहन भारती स्वाति तिवारी संस्कार वर्ग की बालिकाओं ने भी प्रार्थना एवं गीत गाए भाई पंकज तिवारी जी ने एकनाथ वाणी बोली शांति पाठ के साथ वर्ग का समापन हुआ

Thursday, September 12, 2019

Date 11 Sep 2019 विश्व बन्धुत्व दिवस

🚩विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी🚩
शाखा बीना, मध्य प्रान्त

विश्व बन्धुत्व दिवस






🌸विश्व बन्धुत्व दिवस के अवसर पर विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी शाखा बीना के कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय विद्यालय बीना में स्वामी विवेकानंद द्वारा ११ सितबंर १८९३ को अमेरिका के शिकागो शहर में विश्व धर्म संसद में दिए गए भाषण के सन्दर्भ में उनके विचार उपस्थित गुरुओं एवं छात्रों को बताते हुए कहा कि जब स्वामी विवेकानन्द ने अपने भाषण की शुरुआत 'मेरे अमेरिकी भाइयो और बहनों' कहकर की तो सभागार कई मिनटों तक तालियों की गूंज से हर तरफ गूंजता रहा . स्वामी विवेकानंद ने आगे कहा कि मैं आपको दुनिया की प्राचीनतम संत परम्परा की तरफ से धन्यवाद देता हूं. मैं आपको सभी धर्मों की जननी की तरफ से धन्यवाद देता हूं और सभी जातियों, संप्रदायों के लाखों, करोड़ों हिन्दुओं की तरफ से आपका आभार व्यक्त करता हूं. स्वामीजी ने कहा कि - मुझे गर्व है कि मैं उस देश से हूं जिसने सभी धर्मों और सभी देशों के सताए गए लोगों को अपने यहां शरण दी और लगातार अब भी उनकी मदद कर रहा है.
🌸इस अवसर पर विवेकानंद शिला स्मारक - एक शास्वत प्रेरणा स्त्रोत के एक भारत विजयी भारत के विषय में भी सभी को अवगत कराया. कार्यकर्ताओं ने आदरणीय प्रभारी प्राचार्य महोदय श्री एन पी सिंग एवं अन्य शिक्षक भाइयों से एक भारत विजयी भारत के अंतर्गत संपर्क किया.
🌸इस अवसर पर श्री धन्ना लाल जी एवं प्रमोद साहू जी ने एक भारत विजयी भारत विमर्श कार्यक्रम में एडवांस योग के माध्यम से सहभागी रहे छात्रों को संपर्क बुकलेट देकर आगे भी राष्ट्रीय कार्य करते रहने के लिए उत्साहवर्धन किया.
🙏भारत माता कि जय🙏

Monday, August 26, 2019

दिनांक २५.०८.२०१९ एक भारत विजयी भारत महा संपर्क अभियान


🚩विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी शाखा बीना🚩
एक भारत विजयी भारत
(महा संपर्क अभियान)


"विवेकानंद शिला स्मारक - शश्वत प्रेरणा स्त्रोत"
स्थान : सिंधी धर्मशाला बीना दिनांक २५.०८.२०१९ प्रातः १० से १२
👉बैठक ओमकार प्रार्थना एवं गीत से प्रारम्भ हुई.
🌸आदरणीय आचार्य राम शर्माजी, नगर महा संपर्क अभियान प्रमुख ने रामायण, महाभारत, एवं अन्य ऐतिहासिक उदाहरणों के माध्यम से सभी को बताया कि इतिहास में पिता-पुत्र, भाई-भाई, सगे-सम्बन्धी आपस में लड़ते रहे क्योंकि उनका आपस में संपर्क नहीं था और बाद में उनको बहुत क्षति उठानी पढ़ी. संपर्क न होने से राष्ट्र में एकता एवं अखंडता का आभाव होता है और शत्रु इनका लाभ लेकर देश को क्षति पहुंचा सकता है.
🌸आदरणीय सत्यजीत जी ठाकुर, टोली प्रमुख - समाज सेवी संघटन, ने सभी से कहा कि आत्मिक संपर्क से आपस में त्याग एवं प्रेम की भावना बढ़ती है और परिणाम स्वरुप कश्मीर से धारा ३७० हटने जैसे परिणाम आने लगते है. विवेकानंद शिला स्मारक का कार्य एक राष्ट्रीय कार्य है जो संपूर्ण राष्ट्र के जनमानस में एकात्मता का भाव जागृत करता है, यह संज्ञान, एकनाथजी इस कार्य से सभी को करा सके। एकनाथजी ने लोक संपर्क, लोक संग्रह, लोक संस्कार, और लोक व्यवस्था पद्दति के माध्यम से प्रत्यक्ष जीवंत संपर्क ही आवश्यक पर जोर दिया.
🌸आदरणीय भंवर सिंह राजपूत, प्रान्त प्रमुख, मध्य प्रान्त विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी ने एक भारत विजय भारत महा संपर्क अभियान में क्या और कैसे करना है? इस विषय पर सभी से चर्चा की एवं सर्व सम्मति से बीना नगर की इस बैठक में यह तय किया गया कि:
👉सभी टोलियां १५ सितम्बर से महा संपर्क अभियान पर निकलेंगी .
👉इससे पूर्व सभी टोली प्रमुख श्रेणी सः संपर्क सूची तैयार कर शीघ्र अति शीघ्र नगर महासम्पर्क अभियान प्रमुख को प्रस्तुत करेंगे।
👉सभी श्रेणी प्रमुखों द्वारा संपर्क की सूची की संयुक्त संख्या के आधार पर आवश्यक संपर्क सामग्री विभाग द्वारा नगर को उपलब्ध कराई जाएगी।
👉श्रेणियों का वर्गीकरण घनिष्ट, सामान्य एवं अपरिचित संपर्क में करना है। संपर्क में घनिष्ट संपर्क को प्राथमिकता देना है।
👉आवश्यकता व अनुकूलता अनुसार संपर्क हेतु समय लेवें।
👉सभी टोलियां आपस में समन्वय बनाकर चलेंगी एवं समय समय पर आवश्यकतानुसार एक दुसरे को सहयोग करेंगी
भारत माता की जय